Posts

Showing posts from October 18, 2018

*सिद्ध इन्द्रयाण अजवाइन*

Image
सिद्ध अयूर्वादिक

               *सिद्ध इन्द्रयाण अजवाइन*

समस्त दर्द, गठिया रोगों, कफ़ रोगों, स्तन रोगों,पेट के रोगों औऱ आंत के रोगो में सदियों से इन्द्रयाण अजवाइन को अमृत माना जाता रहा है।

           *कैसे तैयार होती हैं इन्द्रयाण अजवाइन*

        *इन्द्रयाण फ़ल में अजवाइन को डाल देते है।*
*5 किलो अजवाइन में 3 किलो इन्द्रयाण 500 ग्राम काला नमक,काली मिर्च  समेत  7 और अयूर्वादिक जड़ी बूटियों को मिलाकर कर 60 दिन के लिए रख देते हैं।*

5 किलो अजवाइन में 3 किलो इन्द्रयाण 500 ग्राम काला नमक,काली मिर्च
★भूमि आवला          50  ग्राम
★बाकुची                 20  ग्राम
★शुद्ध शिलाजी        10  ग्राम
★काली मिर्च            20  ग्राम
★सफ़ेद जीरा           50  ग्राम
★काला जीरा।          50  ग्राम
★कुडू                     50  ग्राम

*60 दिन में इन्द्रयाण अजवाइन तैयार  हो जाती हैं*

       *Online मंगवा सकते हैं इन्द्रयाण अजवाइन*

★★★

     *इन्द्रायण (गड्तुम्बा) के बारे संपूर्ण जानकरी*

इन्द्रायण की बेल समस्त भारत में पाई जाती है। इसकी लंबाई 20 से 30 फुट होती है। पत्ते असमान भागों में विभक्त तरबूज के पत्तों क…

सिद्ध शक्तिवर्धक कल्पचुर्ण

Image
सिद्ध आयुर्वेदिक                       *महाराजा योग*
            *सिद्ध शक्तिवर्धक कल्पचुर्ण*           premature ejaculation
।।एक ऐसा योग जो किसी भी उम्र में उपयोग कर सकते है।।



   *आप को भी आमंत्रण है महाराजा योग का*             *वीर्य और बलवर्धक योग* *शक्राणु ,उतेजना खत्म हो गई हो,शीघ्रपतन, धातु और मर्दाना कमजोरी में ,काम इच्छा का मर जाने में रामबाण *

क्या है नुस्खा तालमखाने          250 ग्राम
कोंच गिरी            100 ग्राम
सफ़ेद मूसली        100 ग्राम
आवला चुर्ण          100 ग्राम
तुलसी बीज           100 ग्राम
कीकर फली          100 ग्राम
सतावर                 100 ग्राम
सालम मिश्री          100 ग्राम
सालम पंजा           100 ग्राम
बड़ दूध                 100 ग्राम
बारासिंघा सिंधभस्म    5 ग्राम
मिश्री                    150 ग्राम
विदारीकंद               50 ग्राम
शिलाजीत               50 ग्राम
कबाब (शीतल)चीनी 50 ग्राम
हत्था जोरी              20 ग्राम
कतीरा गोंद             20 ग्राम
बबूल का गोंद।        20 ग्राम सभी को चुर्ण बनाए। सेवन विधि:- 1-1 चमच्च (5 ग्राम) सुबह और शाम खाने के 1…