Posts

Showing posts from February 25, 2019

बसंत ऋतु के रोग औऱ इलाज

Image
     *बसंत ऋतु में आयुर्वेदिक दवाएं*
                *और खान-पान*

बसंत ऋतु में कफ़ रोग, लीवर रोग , ह्र्दय रोग और खून अशुद्धि जैसे रोग उतपन्न होते हैं।
इसे कच्ची मौसम के रोग भी बोला जाता है।
सिद्ध आयुर्वेदिक औषधियों इस मौसम के हिसाब से निर्मत की जाती है।
।।वसंत ऋतु इस्तेमाल करने योग्य सिद्ध चुर्ण।।
1.सिद्ध कफ़ नाशक कल्पचुर्ण
2.सिद्ध लिवर कल्पचुर्ण
3.सिद्ध ह्रदय कल्पचुर्ण 4.सिद्ध खून शुद्धि कल्पचुर्ण
लिंकः देख सकते टच करे
Sidhayurvedic.com
हिन्‍दू कैलेंडर के हिसाब से15 मार्च से 15 मई का वक्‍त वसंत ऋतु का होता है। 
वसंत ऋतु का शरीर  पर क्‍या असर पड़ता है?  यह वक्‍त गर्मी और सर्दी के बीच का होता है इसलिए ठंड और गर्मी दोनों का इफेक्‍ट होता है। दिन में गर्मी और रात को ठंडक होती है।
इस मौसम में कफ दोष बॉडी पर और हावी होने लगता है।
वजह ये है कि इससे पहले वाले मौसम यानी शिशिर ऋतु में बॉडी में जमा कफ अब गर्मी होने पर पिघल जाता है।
इससे खासतौर पर पचाने की ताकत पर असर पड़ता है। साफ तौर पर कहें तो खाने को पचाने वाली आग जिसे जठराग्‍नि कहते हैं, कमजोर पड़ जाती है। एक तो वैसे ही इस मौसम में कफ का असर ज्‍यादा होता ह…